Wrath of God delivers Instant justice for cow killer, ‘The Cow’ remains scratchless

0
2646

In Hindu culture all the animals are valued and worshiped in some or other sense. Hindu women cook extra chapati/bread for cows, crows, dogs and bull. we have fed peacock, fishes and many more as routine exercise. every other animal or bird is associated with religious sentiments and that is what has helped the civilizations to flourish with togetherness of man and other species in India.

हिन्दू संस्कृति में सभी पशु पक्षियों को किसी न किसी रूप में सम्मान एवं आदर किया जाता हे | हिन्दू गृहणी गौमाता , कौवे , कुत्ते एवं सांड सभी के लिए अतिरिक्त भोजन बनती हैं ताकि नाकि केवल मनुष्य , जानवर भी हमारे घर से भूखा वापस न जाए| हम मोर , मछली इत्यादि लगभग सभी अस पास रहने वाले पशु पक्षियों को खाना खिलाना पसंद करते हैं | लगभग सभी पशु पक्षी हमारी धार्मिक भावना से जुड़ा हे तथा इसी मानव तथा पशु पक्षी के जुडाव से ही भारत में सभ्यता का क्रमिक विकास हुआ| क्युकी सब मिलकर ही आगे बढ़ सकते हैं| यदि एक दुसरे को काटेंगे तो क्रमिक विकास में अकेले रह जायेंगे तथा नष्ट हो जाएँगे |

150930-india-cow

man and animals have lived together, grew together and have helped each others for centuries to flourish and attain value in our simple yet wise society. it is still followed in remote places, which are away from so called development, in India.

मनुष्य तथा जानवर साथ रहे, विकसित हुए, तथा सदियों तक परस्पर एक दुसरे की सेवा कर भारत के स्वच्छ, साधारण एवं ज्ञानपूर्ण समाज में उत्थान एवं महत्त्व पाया| भारत के शेहरी तनावपूर्ण तथाकथित विकास से दूर गांवों में आज भी यही जीवनशेली हे और लोग तनावरहित, परस्पर सहयोग से बनी जीवनशेली का आनंद उठा रहे हैं|

but this poor butcher in video has not been taught the values and power of flourishing together. driven by madness, is hellbent to kill the cow and is tying legs of holy animal. cow gives him his own sweet time to do all that butcher can. once he is almost done tying the all four legs. wrath of god falls upon him. and he is treated as a useless protein pile for justice. what happened next is unbelievable. go to mark 2 min and 10 seconds in video to see instant karma justice.

परन्तु इस कसाई ने परस्पर सहयोग से बने उन्नत समाज की ऊपर लिखी कोई बात नहीं पढ़ी हे| उन्मत्तता का शिकार, गौमाता को मरने पर तुला हे तथा गौमाता के पैर बांध रहा हे | गौमाता कसाई को पूरा समय देती हे| जेसे ही कसाई चारो पैर लगभग पूरी तरह बांध लेता हे परमात्मा का कहर उस पर टूट पड़ता हे | और उसका न्याय वही और उसी समय हो जाता हे| जो आगे हुआ वो आश्चर्य से भी परे हे| कर्म और फल का अभेद्य बंधन देखने के लिए विडियो को 2 मिनट 10 सेकंड्स पर ले जाए|

click next to watch full video on next page and see how everything they did to cow became irrelevant and receive the irreparable damage for what they did to holy cow.

अगले पेज पर पूरी विडियो देखने क लिए नेक्स्ट क्लिक करें और देखें केसे गौमाता को कष्ट पोहचाने पर कसाई ने पाया 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY